Shop By Category

Back

Diwali Decor

Sale

Buy Diwali Decoration Items Online at My Pooja Box

My Pooja Box is your one-stop store for diwali decoration items online, diwali decorative lights, diwali diya, diwali lantern, luxury diwali gift packs and more. This upcoming diwali find decoration items, laxmi ganesh idols, diwali decorative lights and more.

Diwali, the festival of lights, is one of the important and widely spread holidays celebrated in India. It is a celebration of lights, and for many, it is truly a sensory experience, some families decorate their houses with all sorts of lights and open up to the neighbors, sharing their love and their food.


Those celebrating Diwali spend time with family and friends. They perform religious ceremonies to bring in wealth and prosperity for a new year, cook and eat delicious food, design rangolis, light up their lives by lighting diyas, candles and sometimes, by lighting fireworks.

Diwali is celebrated in honor of the lord Rama, who on this day returned from a forest exile. Diwali is actually the middle day in a five-day festival that rings in the Hindu New Year.

DIWALI DECORATION

In Diwali, the entire house is decorated with lights and ‘diyas’. The decorations start from the first day itself when the family members gather around to decorate the interior and the exterior of the house with Diwali decoration items online and special Diwali decorative lights online as well. Little lights are put on the exterior along with lamps. The interior is brightly decorated as well. People gather Diwali decoration ideas from all parts and apply them to their house. These Diwali decoration ideas are mostly simple DIY ideas which also gather immense praises and compliments from visitors.

Certain programs are conducted for the children and they are made to participate in fancy dress events, singing events and dancing events as well. The enthusiastic parents also try to teach their children about the importance of Diwali different essays on Diwali in Hindi. These essays on Diwali in Hindi help the children understand Diwali in the deeper sense of the term. Diwali information in Hindi can also be gathered from the internet so that the children understand Diwali and its origins in a better way. This Diwali information in Hindi make the children more interested in this event and its significance.

These are the few of the many varieties of diyas which are available in the market. Each diya has its own significance and uses. Order these styles from myp pooja box and if you want to save a few extra bucks, grab diwali offers and coupons. You can use each of these diyas in accordance with the requirements of the celebration. Always remember diyas and gods have a strong relationship. So, this Diwali when you are using a particular kind of diya always remember the gods or the ritual it is used for.

The discovery of metals made the lives of man easy as the metal products proved to be such a great help for them that they successfully completed some impossible tasks. India is well known for its beautiful brass craft, which covers a wide range of products, ranging from decoration items to utility ware. India, in fact, is one of the largest brass makers in the world. The art of brass craft has been practiced for almost 5 million years, say historians.

Though in many households, Diwali is just celebrated for two days, that is, the day of ‘chhoti Diwali’ and another of ‘main Diwali’, Diwali is actually of five days. Historically speaking, people used to celebrate Diwali for 5 days and those 5 days are significantly different from each other.

FIVE DAY DIWALI CELEBRATION

Day 1 is celebrated as Dhanteras. Dhanteras is the day when the people buy gold or silver jewellery so that evil cannot enter their homes due to the sparkle and glitter of the jewels. Also, on this very day, the churning of the ocean by the Gods on one side and demons on the other caused the emergence of Goddess Lakshmi from the middle of the ocean. This day marks the beginning of Diwali and every house gets decorated from this very day with Diwali decoration items bought online. Also, the members of the house make Rangoli for Diwali at their doorsteps and in the room where the Diwali worshipping is conducted.

Day 2 is auspicious for every Hindu. On this day, it is believed that Lord Krishna defeated the Nakasura demon and eliminated evil from the world. That is why this day is observed by sending Diwali messages and Diwali quotes to each other. Some people opt for professional Rangoli designs, so they search for mesmerizing Rangoli designs for Diwali and make them in order to make the house look brilliant by shopping for Diwali lights online as well. Also, this day is observed in South India more than any other part of India.

Day 3 This day marks the main day of the entire celebration. On this day, Goddess Lakshmi is worshipped at every home along with another God, preferably Lord Ganesha, Lord Kuber or Goddess Saraswati. Some people worship all of them together. On this day, people wear bright clothes, make Rangoli for Diwali and buy Diwali lights online and Diwali decoration items online for their homes and wish each other with Happy Diwali quotes. This day is practically observed as Diwali and is celebrated worldwide. People visit their neighbors’ and gift sweets to their loved ones. Diwali parties are also arranged by some members of the community which everybody looks forward to attending.

Day 4 Padwa is celebrated on the 4th day of these five days celebrations. On this occasion, the husband and wife spend some time together in each other’s company. This day is mainly observed to strengthen the beautiful relationship of a husband and wife. They shower each other with gifts and love. The husbands and wives who live away from their partners due to jobs share Diwali messages and Diwali greetings with each other. Due to the online shopping websites, they send thoughtful diwali gifts to each other right on time in order to make the other one feel loved even without being physically present around them or even by sending Diwali decoration items online for their house to be redecorated on this occasion.

Day 5 Bhai Dooj is observed on the 5th day or the last day of Diwali. This day is exceptionally dedicated to the siblings and cousins who wait all year round to finally spend some quality time with their fellow siblings or cousins. While the Diwali decorations are still on, the brothers visit the sisters on this special day at her place and celebrate this pious occasion. The sisters pray for their brothers’ good health and prosperity. Then, the sisters put holy colors on the brothers’ foreheads to ensure protection and safety. After this, the younger of the two touch the elder one’s feet in order to take blessings. Then, the whole family joins in a sumptuous lunch which is mainly cooked by the sister in honor of her brother.

With the fifth day, Diwali comes to a conclusion. But, the memories that one create remain along with happiness and peace.


ऑनलाइन ऑर्डर करें दिवाली डेकोरेशन आइटम्स,लाइट्स और दीपक

‘माय पूजा बॉक्स’ एकमात्र ऐसा प्लैटफॉर्म है जहां दिवाली पर सजावट करने वाली हर चीज ऑनलाइन मिलती है। इस दिवाली हम आपके लिए लेकर आए है दिवाली डेकोरेटिव लाइट्स, डेकोरेटिव दीपक, दिवाली लालटेन, यूनिक दिवाली गिफ्ट बॉक्स, लक्ष्मी गणेश की प्रतिमा, डेकोरेटिव लाइट्स और भी बहुत कछ।

दीपों का त्यौहार दिवाली हमारे देश में सबसे महत्त्वपूर्ण और धूमधाम से मनाया जाने वाला त्यौहार है। ज्यादातर लोगों के लिए ये त्यौहार है रोशनी का, इस मौके पर कुछ परिवार अपने घरों में तरह-तरह की लाइट्स से घर की सजावट करते है। पड़ोसियों, दोस्तों, रिश्तेदारों को मिठाईयां बांटकर शुभकामनाएं देते है। दिवाली के जरिए हम अपने परिवार और दोस्तों के साथ वक्त बिताते है। घर में माता लक्ष्मी की कृपा बने रहे,इसके लिए पूजा-पाठ करते है। पकवान बनाते है,घर की चौखट को रंगोली से सजाते है। शाम होने पर दियों और मोमबत्तियों से रोशनी करते है और अंत में पटाखे फोड़ने का आनंद लेते हैं।

दिवाली भगवान राम के वनवास पूरा करके घर वापसी के सम्मान में मनाई जाती है। असल में दिवाली पांच दिनों के त्यौहार के बीच में मनाई जाती है।

दिवाली डेकोरेशन

दिवाली पर पूरे घर को डेकोरेटिव लाइट्स और दियों से सजाया जाता है। परिवार के साथ मिलकर कई दिनों तक घर के अंदर और बाहर सजावट चलती है। ऑनलाइन मिलने वाली लाइट्स और लैंप्स से घर के बाहरी हिस्सों को सजाया जाता है। घर के अंदर भी तरह-तरह के डेकोरेटिव आइटम्स से सजावट की जाती है। दिवाली आने से पहले ही हर कोई इस सोच में रहता है कि इस बार घर को कैसे अलग नया लुक दिया जाए। ये सारी तैयारी दिवाली वाले दिन आने वाले मेहमानों को प्रभावित करने के लिए होती है।

बच्चों के लिए उनके हिसाब से छोटी-छोटी प्रतियोगिताएं रखी जाती है। जिसमें फैंसी ड्रेस,सिंगिंग,डांसिंग जैसी एक्टिविटी शामिल होती है। जिससे बच्चों को दिवाली के महत्त्व के बारे में समाझाने में माता-पिता को आसानी होती है। आजकल तो इंटरनेट पर खासकर बच्चों के लिए दिवाली पर हिन्दी में कंटेंट होता है ताकि उन्हें दिवाली के बारे में जानने में आसानी होती है और दिलचस्पी भी आती है।

बाजार में तरह-तरह के दियों की वैरायिटी उपलब्ध है। हर दीपक अपने आपमें खास और महत्तवपूर्ण है। ‘माय पूजा बॉक्स’ पर आपको सबसे अलग और खूबसबरत दिये मिलेंगे। आप चाहें तो हमारे दिवाली ऑफर्स या कूपन्स का फायदा उठाकर दियों की शॉपिंग का मजा ले सकते है। याद रखें दीपक और भगवान का सबसे मजबूत रिश्ता होता है। तो अब जब कभी दीपक खरीदें,ये बात ध्यान में रखें कि आप किस भगवान या अनुष्ठान के लिए इसे ले रहें है।

धातु की खोज होने से इंसान का जीवन काफी आसान हो गया है। धातु से बनी हुई चीजें लंबे समय तक चलती हैं जिससे कई नामुमकिन काम भी हो जाते है। भारत अपने खूबसूरत पीतल शिल्प के लिए जाना जाता है जो सजावट के सामान से लेकर उपयोगिता वेयर तक के उत्पादों की एक विस्तृत श्रृंखला को शामिल करता है। हमारा देश दुनिया के सबसे बड़े पीतल निर्माताओं में से एक है। इतिहासकारों का कहना है कि पीतल शिल्प की कला लगभग 5 मिलियन वर्षों से प्रचलित है. हालांकि कई घरों में दिवाली सिर्फ दो दिनों के लिए मनाई जाती है,यानी छोटी दिवाली और मुख्य दिवाली। ऐतिहासिक रुप से देखा जाए तो लोग पहले पांच दिनों तक दिवाली मनाते थे और वे पांच दिन एक दूसरे से काफी अलग होते थे।

पांच दिवसीय दिवाली उत्सव

पहला दिन धनतेरस के रुप में मनाया जाता है। इस दिन लोग सोने और चांदी के आभूषण खरीदते है। उनका मनना होता है कि इन रत्नों की चमक से बुराई घर में प्रवेश नहीं कर पाती। इस दिन एक ओर देवताओं द्वारा समुद्र मंथन और दूसरी ओर राक्षसों ने समुद्र के बीच से देवी लक्ष्मी का आविर्भाव किया था । इस दिन से ही दिवाली की शुरूआत हो जाती है। लोग अपने घरों में इसी दिन से ऑनलाइन ऑर्डर किए दिवाली डेकोरेटिव आट्स से घर को सजाते है। परिवार के लोग घर की चौखट और जहां दिवाली पूजा होनी है वहां रंगोली बनाते है।

दूसरा दिन हिन्दूओं के लिए काफी शुभ माना जाता है। कहा जाता है कि इस दिन भगवान कृष्ण ने नकासुर दानव का वध कर दुनिया से बुराई का विनाश किया था। इस दिन सभी को दिवाली की शुभकामानओं का संदेश भेजा जाता है। कुछ लोग प्रोफेशनल रंगोली डिजाइनों का विकल्प चुनते है,इसलिए वे दिवाली के लिए रंगोली डिजाइनों को तैयार करने के लिए खोज करते है साथ ही ऑनलाइन दिवाली उपहारों के लिए खरीदारी करके घर को शानदार दिखाते है। ऐसा देखा जाता है कि आज का दिन दक्षिण भारत में ज्यादा मनाया जाता है।

तीसरा दिन पूरे उत्सव का मुख्य दिन है। इस दिन माता लक्ष्मी की पूजा अन्य भगवान जैसे श्रीगणेश,कुबेर या देवी लक्ष्मी के साथ की जाती है। कुछ लोग उन सभी को एक साथ पूजते है। इस दिन लोग नए चमकीले कपड़े पहनते है,दिवाली के लिए रंगोली बनाते है और अपने घरों की सजावट के लिए ऑनलाइन वस्तुएं खरीदते है। इस दिन को दुनिया भर में व्यवहारिक रुप से दिवाली के रुप में मनाया जाता है। लोग अपने पड़ोसियों से मिलते है और अपने प्रियजनों को मिठाइयों के साथ शुभकामनाएं देते है। जो दिवाली पार्टी करने के इच्छुक होते है उनके लिए भी समुदाय के लोगों द्वारा ये व्यवस्थित किया जाता है।

चौथा दिन दिवाली के चौथे दिन मनाया जाता है पड़वा.इस अवसर पर पति-पत्नी कुछ पल साथ बिताते है.ये दिन मुख्य रुप से पति-पत्नी के सुंदर संबंधों को मजबूत करने के लिए मनाया जाता है.वे एक दूसरे को प्यार से उपहार देते है। नौकरियों के कारण घर से दूर रहने वाले पति-पत्नी माता-पिता को दिवाली की शुभकामनाएं भेजते हैं। ऑनलाइन शॉपिंग वेबसाइट्स की वजह से एक दूसरे को उपहार या दिवाली सजावट की वस्तु भेजकर अपने आसपास शारीरिक रुप से उपस्थित होने का एहसास कराते है।

पांचवां दिन यानी दिवाली का अंतिम दिन। इस दिन को भाई दूज भी कहते है। ये पर्व भाई-बहन के रिश्ते को और मजबूत बनाने और भाई की लंबी उम्र के लिए मनाया जाता है। भाई इस दिन अपनी बहनों के घर जाते है और इस शुभ दिन को मनाते है। बहनें अपने भाइयों को तिलक लगाकर भोजन कराती है। इस दिन को लेकर मान्यता है कि यमराज अपनी बहन यमुनाजी से मिलने के लिए उनके घर आए थे और यमुनाजी ने उन्हें प्रेमपूर्वक भोजन कराया एवं यह वचन लिया कि इस दिन हर साल वे अपनी बहन के घर भोजन के लिए पधारेंगे। साथ ही जो बहन इस दिन अपने भाई को आमंत्रित कर तिलक करके भोजन कराएगी, उसके भाई की उम्र लंबी होगी। तभी से भाई दूज पर यह परंपरा बन गई।

इसी के साथ निष्कर्ष यह है कि पांच दिनों तक मनाने वाला त्यौहार दिवाली खुशी और शांति के साथ हमेशा यादों में रह जाती है।

View More +

Thank you!

Your message has been successfully sent. We will contact you very soon!

Whatsapp Us