Shop By Category

Back

Navratri

Shop Navratri Pooja Samagri (नवरात्रि पूजन सामग्री) & Special Navratri Gifts Online

India is a land of cultures and diversity. A land where people of different caste and culture unite together and celebrate it with joy and happiness. Several festivals are celebrated amongst several societies in India. And what is unique about those festivals? Well, in India, especially in the Hindu culture there are different festivals occurring in different part of months which creates more opportunity for holidays in India to be celebrated more vibrantly.

Navaratri or Navratri pooja is dedicated to Goddess Durga. To simplify your puja vidhi, we have come up with Navratri puja samagri items and Navratri decoration items packed in boxes. Our Navratri pooja boxes feature every samagri for the Durga Mata murti you buy online. Even they help you send your wishes by serving your Navratri decoration items for gifting purposes. You can use our Navratri gifts online as perfect gifts for family and friends.

There are goddess Durga idols, Navratri decoration items, Durga mata murti, Mata ki chunri, Navratri puja samagri, special Navratri decoration items and gifts, brass Diya, Kumkum, Navratri Pooja Thali, goddess Durga idol, Dhoop with other items that you can get included or excluded as per your wish. You can get your Navratri box personalized with items you like.

Navratri Decoration Items

Navratri is a festival with complete enthusiasm and happiness, people decorate their houses on this auspicious occasion. Brass has its own charm and elegance. The amazing shine and texture of this metal can easily add the much-needed drama to your decor this festive season. Brass lamps and puja thali set when lit adds the warmth and the gleam of it is a sure thing to bring in the festive cheer.

Handmade lotus incense brass stands and aroma diffusers lamps can be kept anywhere inside the home or even outdoors to make the place look cheerful. The brass lamps, light it up and add some petals or flowers for the easiest way to create a perfect festive ambiance.

Navratri Gifts Online

Navratri is a festival dedicated to the worship of the goddess Durga. People all over the country worship the Goddess Durga in all her different avatars for nine days on this occasion. In olden times, Navratri was associated with the fertility of the Mother Earth and farmers usually sow seeds and thank the Goddess for her blessings and pray for better yield. It is popularly celebrated all over the country. Feasting is a major highlight of the celebrations and people serve Navratri special food on the occasion. People also exchange gifts, sweets and wishes on Navratri. And you can also send Navratri greetings to your loved ones through us. We have brought for you an exclusive collection of the best Navratri gifts online to make your celebrations complete. You can choose from a whole range of exclusive gift items such as Navratri decoration items and Navratri thali gifts among others. Our web portal is a one-stop solutions store for all your gift requirements and we also have for you Navratri offers on a whole range of traditional gifts which include idols of goddess Durga and home decoration items as well. These gifts come in exclusive Navratri thali Hampers and they make excellent traditional gifts for this auspicious occasion.

About Navratri

Navratri is also known as Durga Puja in West Bengal. People over there especially women play with colors. It is a nine-day festival in India and on the tenth day, the concluding ceremony is done with Durga Mata murti. During these nine days, we worship Goddess Durga idols which can be brought online. From the very first day, all the goddess Durga idols online are being designed and decorated in such a way that they look immensely beautiful and it absolutely seems like they have come to life again.

The actual purpose of celebrating Navratri is to precede the belief of the good ending or overcoming the bad or good over evil. On all the 9 days different worshiping books are being read and the temples and houses are decorated with Navratri decoration items of flowers and lights and prayers are being enchanted on the loudspeakers all the time. A proper dress-up with accessories is being done for the goddess Durga idol. Each day is a day for a different goddess Durga idols. Every morning and evening devoted to prayers about the Durga idol online. Different tents are being created those days to place the idol so that people could come and worship. Many families go out in the evening to attend the prayers happening in those tents where the goddess Durga idol is being placed.

In some part of the country, some devotees also are on a fast for those nine days to impress the goddess with the devotion they pay and for the love and affection, they have for the goddess Durga Mata murti and others feast. And during this period the food which is prepared for the devotees or the people on fast is totally different and they are cooked without salt in it.

Navratri is a festival which is mostly celebrated in the northeast and eastern part of India. Kids in schools have a holiday on the last three days of Navratri. The tenth day is also known as the Vijayadashami or Dussehra. On this day all the idols are being immersed in the water bodies. Different programs are being done on the tenth day such as Raam-Leela. In this event Raam-Leela, artists perform different stories and chapters of Lord Rama and entertain and acknowledge people. People take time out especially for the event, as they are very entertaining as well as knowledgeable about Hindu culture. Some schools also arrange a special function of Navratri with proper Navratri puja samagri and Navratri decoration items and also get goddess Durga idol online.

Nava means "nine" and "ratri" means night. During the nine-night long festival of Navratri the supreme female cosmic power or Goddess Shakti is worshipped in her variously manifested forms as Durga, Laxmi and Saraswati. All three Goddess are the incarnations of Goddess Shakti (the Mother Goddess). The festival signifies power, wealth, prosperity and knowledge.

The festival of Navratri begins on the first day of Ashwin of the bright fortnight. On the first three nights Durga is invoked for her strength and ferocity which are required to cut out from the mind it's strong rooted, deep-seated negative tendencies. Noble virtues and the knowledge of self can only be gained when all evil tendencies in the mind are destroyed. The killing of Mahishashura (Mahisha demon) by Durga Devi actually symbolizes the destruction of the evil tendencies of the mind. To destroy our innate evil tendencies is very difficult. The buffalo stands for the malefic qualities in everyone of us. It reminds us that despite having a lot of energy and potential inside us, we prefer to do nothing for our spiritual emancipation. Just like the buffalo that likes to lie in pools of water, we too like to rest and spend our time and energy in worthless pastimes. Our worship of Goddess Durga during the first three nights of Navaratri is our invocation to the Divine Power within us to assist us in destroying our animalistic tendencies.

On the next three nights, Goddess Laxmi is worshipped. For the knowledge of self-realization to dawn on us, we have to first prepare our minds. Our worship of Goddess Lakshmi is actually our attempt to seek the blessings of the divine being to help us in obtaining the purification of mind. Goddess Lakshmi represents wealth that we assume to be only material wealth. But material wealth is needed only in this world and without self-discipline, respect, sincerity, kindness and love, wealth can make our life miserable. The real wealth is the spiritual wealth that we can gain by the practice of the right values in our lives, which purifies our minds and takes us closer towards self-realization. Goddess Lakshmi is our source of this true wealth. By our worship, we invite her to bring into our homes her wealth of noble values to nourish and purify our minds.

The final three nights are spent in the invocation of Goddess Saraswati. Victory over the mind can be gained only through the proper knowledge and thorough understanding; Goddess Saraswati symbolizes this highest knowledge of the Self. Lord Krishna himself says in the Bhagavad Gita: "The knowledge of the Self is the knowledge"; and He adds, "It is My vibhuti, My glory." If we do not have the knowledge of the Self, then our knowledge of all other subjects has no real worth. The knowledge of the Self that is represented by Goddess Saraswati.

During Navratri, the Rasa (dance of joy) of Shree Krishna and the Gopis is also enacted. This dance symbolizes the dance of Realisation which represents the joy and happiness of the mind that becomes purer and calmer due to a greater understanding of the nature of the Inner Self.

The Ninth day of Navaratri is celebrated as Ayudha pooja which has a special significance. It is held to be the time when the Pandava brothers retrieved their weapons that they had stashed in a Shami tree during the last year of their 13 year exile. On this day, all articles that are used for progress and prosperity of mankind are worshipped. People worship their work-tools, household appliances and their vehicles on this day.

The festival concludes in Dusshera or Vijayadasami. According to popular belief, Dussehra celebrates the victory of Goddess Durga over the wicked demon Mahishasura who, according to legend, belonged to Mysore. It is also believed that the festival actually commemorates the killing of the great demon king of Lanka, Ravan, by Lord Rama. Both Mahishasura and Ravan are demons and their execution is a symbol of the destruction of the evil that resides within our mind. Navaratri represents the triumph of good over evil.

ऑनलाइन खरीदें नवरात्रि पूजा सामग्री और स्पेशल गिफ्ट्स

भारत संस्कृतियों और विविधता का देश है। ये एक ऐसी भूमि है जहां विभिन्न जाति और संस्कृति के लोग एकजुट होकर इसे खुशी से मनाते है। भारत में कई समाज के बीच कई त्यौहार मनाए जाते है। और उन त्यौहारों के बारे में क्या अनोखा है? भारत में विशेष रुप से हिंदू संस्कृति में अलग-अलग महीनें तरह-तरह के त्यौहार होते हैं जिसके चलते अधिक छुट्टियां लेने के अवसर पैदा होते हैं।

नवरात्रि पूजा देवी दुर्गा को समर्पित होती है। आपकी पूजा विधि को सरल बनाने के लिए, हम नवरात्रि पूजा सामग्री और नवरात्रि सजावट का सामान लेकर आए हैं। हमारे नवरात्रि पूजा बॉक्स में आपके द्वारा खरीदे जाने वाली दुर्गा माता की मूर्ति के लिए हर सामग्री होती है। यहां तक कि वे आपको उपहार में देने के लिए नवरात्रि सजावट वस्तुओं की सेवा करके शुभकामनाएं भेजने में मदद करते है। आप अपने परिवार और दोस्तों के लिए परफेक्ट ऑनलाइन नवरात्रि गिफ्ट्स ऑर्डर कर सकते हैं।

आप हमारी वेबसाइट पर उपलब्ध सामग्री से अपने नवरात्रि बॉक्स को परसनलाइज्ड कर सकते है। जैसे देवी दुर्गा की प्रतिमा,नवरात्रि डेकोरेशन आइट्म्स,गिफ्ट्स,पीतल के दीपक,कुमकुम,पूजा थाली,धूप आदि।इन सभी चीजों से आप अपना मनपसंद बॉक्स तैयार करवा सकते हैं।

नवरात्रि डेकोरेशन आइट्म्स

नवरात्रि त्यौहार है उमंग और उत्साह का। इस मौके पर लोग अपने घर को खूब सजाते हैं। पीतल का अपना आकर्षण होता है। इस धातु की अद्भुत चमक और बनावट आसानी से इस उत्सव के मौसम में आपकी सजावट में महत्त्वपूर्ण भूमिका निभाती है। पीतल के दीपक और थाली सेट जब जलाए जाते है तो इस त्यौहार की गर्मजोशी और चमक देखते ही बनती है।

हाथ से बनी हुई कमल धूप अगरबत्ती और सुगंध विसारक लैंप घर के अंदर कहीं भी रखे जा सकते है,यहां तक की जगह को देखने लायक बना सकते है। पीतल के दीपक के साथ फूलों की पंखुड़ियां रख कर आसानी से उत्सव भरे माहौल को परिपूर्ण कर सकते है।

ऑनलाइन नवरात्रि गिफ्ट्स

नवरात्रि एक ऐसा त्योहार है जो देवी दुर्गा को समर्पित है। इस अवसर पर पूरे देश में लोग नौ दिनों तक माता के अलग-अलग अवतार की पूजा करते है। पुराने समय में नवरात्रि माता धरती की उर्वरता से जुड़ी हुई थी,किसान आमतौर पर बीज बोते हैं और देवी को अपने आशीर्वाद के लिए धन्यवाद देकर बेहतर उपज के लिए प्रार्थना करते हैं। यह पूरे देश में लोकप्रिय रुप से मनाया जाता है। दावत समारोह एक प्रमुख आकर्षण होता है और लोग इस अवसर पर नवरात्रि विशेष भोजन परोसते हैं। लोग नवरात्रि पर उपहार और मिठाईयों का आदान-प्रदान कर बधाईयां देते हैं। आप हमारे माध्यम से अपने प्रियजनों को नवरात्रि की शुभकामनाएं भेज सकते हैं। हम आपके उत्सव को पूरा करने के लिए लाए है ऑनलाइन सर्वश्रेष्ठ नवरात्रि उपहारों का एक विशेष संग्रह। आप नवरात्रि सजावट की वस्तुओं और नवरात्रि के लिए विशेष उपहार आइट्म्स की एक पूरी श्रृंखला से चुन सकते हैं। हमारी वेब पोर्टल आपके सभी उपहार आवश्यकताओं के लिए एक कदम समाधान है। हमारे पास आपके लिए नवरात्रि में पारंपरिक उपहारों की एक पूरी श्रृंखला है,जिसमें देवी दुर्गा की मूर्तियां और घर की सजावट के सामान भी शामिल है।ये उपहार एक्सक्लूसिव थाली हैम्पर्स में आते है जो इस शुभ अवसर के लिए उत्कृष्ट पारंपरिक उपहार होते है।

क्या है नवरात्रि ?

नवरात्रि को पश्चिम बंगाल में दुर्गा पूजा कहा जाता है। लोग वहां खासकर महिलाएं रंगों से खेला करती हैं। नवरात्रि नौ दिनों का त्यौहार है और दसवें दिन समापन समारोह दुर्गा माता की मूर्ति के विसर्जन के साथ किया जाता है। इन नौ दिनों में हम माता दुर्गा की पूजा करते है जिनकी प्रतिमा आप ऑनलाइन खरीद सकते है। हमने दुर्गा माता की मूर्ति को इस तरह से डिजाइन किया है ताकि वो बेहद खूबसूरत और आर्कषक दिखें।

अच्छे अंत या बुरे पर अच्छाई की धारणा के साथ नवरात्रि का त्यौहार हमेशा मनाया जाता है। पूरे नौ दिनों तक मंदिर और घर को फूलों और तरह-तरह की लाइट्स से सजाया जाता है। धार्मिक किताबें पढ़ी जाती है और हर वक्त मंदिरों से लाउड स्पीकर्स पर मंत्रों के उच्चारण सुनाई देते हैं। माता का वस्त्रों और आभूषणों से विशेष श्रृंगार किया जाता है। हर दिन मां के अलग रुप की पूजा की जाती है। सुबह-शाम भक्त माता की भक्ति में लीन रहते है।घर के पास तरह-तरह के पंडाल लगते है जहां माता की मूर्ति स्थापित की जाती है ताकि लोग दर्शन कर सके।लोग शाम को अपने घर से निकल कर माता की आरती में शामिल होने पंडाल जाते है।

हमारे देश के कुछ हिस्सों में भक्त पूरे नौ दिन उपवास रखते हैं ताकि वो माता की कृपा पा सकें। फिर नौ दिन पूरे होने पर सबके लिए लंगर या दावत रखते हैं। व्रत के दौरान बनने वाला खाना काफी अलग होता है जिसमें नमक भी नहीं डाला जाता। नवरात्रि का त्यौहार भारत के खासकर पूर्वोत्तर और पूर्वी इलाकों में मनाया जाता है। बच्चों को नवरात्रि के आखिरी तीन दिनों में स्कूल में छुट्टी भी मिलती है। आखिरी यानी दसवें दिन को विजयादशमी या दशहरा कहा जाता है। इस दिन माता की प्रतिमाओं को नदी या तालाबों में विसर्जित किया जाता है। तरह-तरह के कार्यक्रम जैसे रामलीला का आयोजन होता है जिसमें कलाकार रामायण के कुछ अंश का प्रदर्शन करते है। लोग समय निकालकर इसे देखने जाते है जिससे ना केवल उनका मनोरंजन होता है बल्कि हिन्दू संस्कृति का ज्ञान भी बढ़ता है। कुछ स्कूलों में नवरात्रि पर खास कार्यक्रम आयोजित किए जाते है जिसमें नवरात्रि पूजा सामग्री और सजावट के सामान से माता दुर्गा की पूजा होती है।

नवरात्रि दो शब्दों से बनती है। नव मतलब ‘नौ’ और रात्रि मतलब ‘रात’। नवरात्रि के नौ रात के लंबे त्यौहार के दौरान देवी शक्ति की पूजा उनके विभिन्न रुप दुर्गा,लक्ष्मी और सरस्वती के रुप में की जाती है। तीनों देवियां शक्ति की ही अलग-अलग अवतार हैं। ये त्यौहार शक्ति,धन,समृद्धि और ज्ञान का प्रतीक है।

नवरात्रि की शुरूआत अश्विन मास के पहले दिन से शुरू होती है। पहली तीन रातों में दुर्गा को उनकी ताकत और गति के लिए आमंत्रित किया जाता है,जो मन से मजबूत,गहरी बैठी हुई नकारात्मक प्रवृतियों को बाहर निकालने के लिए आवश्यक है। उत्तम गुणों और स्वयं के ज्ञान को तभी प्राप्त किया जा सकता ह जब मन की सभी बुरी प्रवृत्तियां नष्ट हो जाएं। देवी दुर्गा द्वारा महिषासुर का वध वास्तव में मन की बुरी प्रवृत्तियों के विनाश का प्रतीक है। हमारी जन्मजात दुष्ट प्रवृत्तियों को नष्ट करना बहुत कठिन होता है। नवरात्रि की पहली तीन रातों के दौरान देवी दुर्गा की पूजा हमारे भीतर की ईश्वरीय शक्ति के लिए हमारा आह्वान है जो हमारी पशुवादी प्रवृत्तियों को नष्ट करने में हमारी सहायता करती है।

अगली तीन रातों में देवी लक्ष्मी की पूजा की जाती है। आत्म बोध के ज्ञान के लिए हमें पहले अपने दिमाग को तैयार करना होगा। देवी लक्ष्मी की पूजा वास्तव में हमारा प्रयास है कि परमात्मा का आर्शीवाद प्राप्त करने के लिए मन की शुद्धि करने में सहायता करें। देवी लक्ष्मी धन का प्रतिनिधित्व करती हैं जिसे हम केवल भौतिक धन मानते है। भले ही इस दुनिया में भौतिक धन की आवश्यकता है,लेकिन बिना आत्म-अनुशासन,सम्मान,ईमानदारी,दया और प्रेम के हमारा जीवन दुखी हो सकता है। वास्तविक धन वह आध्यात्मिक धन है जिसे हम अपने जीवन में सही मूल्यों के अभ्यास द्वारा प्राप्त कर सकते है,जो हमारे मन को शुद्ध करता है और हमें आत्म प्राप्ति की ओर ले जाता है। देवी लक्ष्मी इस सच्चे धन की हमारी स्त्रोत है। हमारी उपासना के द्वारा,हम देवी लक्ष्मी को अपने घर में आने के लिए आमंत्रित करते है ताकि हमारे महान मूल्यों का पोषण हो सके और हमारे मन को शुद्ध किया जा सके।

अंतिम तीन रातों को देवी सरस्वती के आह्वान में बिताया जाता है। उचित ज्ञान और गहन समझ के द्वारा ही मन पर विजय प्राप्त की जा सकती है। देवी सरस्वती स्वयं के इस उच्चतम ज्ञान का प्रतीक है।भगवद् गीता में स्वयं भगवान कृष्ण ने कहा है कि स्वयं का ज्ञान ही ज्ञान होता है,उन्होंने कहा कि ये मेरी विभूति है,मेरी महिमा है। यदि हमें स्वयं का ज्ञान नहीं है,तो अन्य सभी विषयों के बारे में हमारे ज्ञान का कोई मूल्य नहीं है। स्वयं का ज्ञान देवी सरस्वती द्वारा दर्शाया गया है। नवरात्रि के दौरान,श्रीकृष्ण और गोपियों की रासलीला देखने को मिलती है। ये नृत्य मन की खुशी का प्रतिनिधित्व करता है जो आंतरिक स्व की प्रकृति की समझ के कारण शुद्ध और शांत हो जाता है।

नवरात्रि के नौवें दिन आयुध पूजा होती है जिसका एक विशेष महत्त्व होता है। यह उस समय के लिए आयोजित किया जाता है जब पांडवो ने अपने हथियारों को फिर से प्राप्त किया जो कि वे अपने 13 साल के वनवास के अंतिम वर्ष के दौरान एक शमी के पेड़ टकरा गए थे। इस दिन मानव जाति की प्रगति और समृद्धि के लिए उपयोग किए जाने वाले सभी लेखों की पूजा की जाती है। लोग इस दिन अपने कार्य उपकरण,घरेलू उपकरण और अपने वाहनों की पूजा करते हैं।

मान्यता के अनुसार,दशहरा दुष्ट दावन महिषासुर पर देवी दुर्गा की जीत का जश्न मनाता है,जो किंवदंती के अनुसार,मैसूर के थे। यही भी माना जाता है कि त्यौहार वास्तव में भगवान राम के महान राक्षस राजा रावण की हत्या की याद दिलाते हैं। महिषासुर और रावण दोनों ही राक्षस थे और उनका वध उस बुराई के विनाश का प्रतीक है जो हमारे मन में रहती है। नवरात्रि बुराई पर अच्छाई की विजय का प्रतिनिधित्व करती है।

View More +

Thank you!

Your message has been successfully sent. We will contact you very soon!

Whatsapp Us