Shop By Category

Back

Karwa Chauth

Rejoice Karwa Chauth with Personalized Pooja Boxes and Gifts

The most beautiful part of our country is its rich and varied culture. Every festival imaginable is celebrated here with great pomp and joy. From Navratri to Dhanteras and from Gudi Padwa to Karva Chauth, India embraces all festivals with open arms.

Karwa Chauth signifies the beauty of marriage. Its vidhi involves married women fasting for the longevity of their husband. Husband show their appreciation with gifts that add to the fervor of this festival.

To celebrate the spirit of Karwa Chauth, My Pooja Box brings you a wide range of karwa chauth pooja thali set, karwa chauth pooja samagri items, jewelry, karwa chauth gifts for wife.

Karwa Chauth 2019 will be celebrated on 17th October. India boasts of an array of significant festivals, of which Karwa Chauth marks one important celebration for the married women folk of the country.


Exclusive Collection of Karwa Chauth Thali Set Online @ My Pooja Box!

List of Karwachauth Thali Thali Colors Thali Material
Red Thali Set Red Velvet, Steel
Floral Gotta Patti Thali Pink Material: Steel
Vibrant Thali set Red Golden Material : Steel
Peach Beaded Thali Set Peach Material : Steel
3-Layer Thali Green & Pink Material : pom pom, beads
Golden Thali set Maroon Golden Material : Steel
Karwa Chauth Thali Set Golden Material : Steel
Velvet Red Decorated Thali Red Material : Steel
Golden Pink Thali Set Golden Pink Material : Steel

Significance of Karwa Chauth

A variety of festivals, one more interesting than the other, and unique customs make India a very wonderful and lively country. These festivals and rituals are a true expression of its rich cultural heritage. The celebrations are a source of joy and happy memories such that even after festivals are over the sense of celebration resonates in their minds. One such interesting festival is Karwa Chauth, a festival i.e. very important for married women. All married women celebrate with immense love, purity and joy. Every married woman, regardless of her age, waits for this auspicious day.

The festival is very popular in North India especially amongst newlywed Hindu and Sikh couples. However, thanks to Hindi TV serials Karwa Chauth has got known across India. During the festival married women fast for the wellbeing, prosperity and long life of their beloved husband with a karwa chauth thali set. Fasting is supposed to be rigorous although woman adjust the norms to suit their health for e.g. my mother fasted only till lunch because her body could not take it.

The preparations begin weeks before the festival, during this time markets are full of colorful pooja items like Karwa, decorated karwa chauth thali set and murti of goddess Parvati also there are karwa chauth gifts for wife which the husband gets on this day.

Why is Karwa Chauth popular in North India?

It is a cultural festival and celebrated by the people of Punjab, Hindu & Sikh, because foreign invaders invariably attacked undivided Punjab first.

Even though India is no longer faced by similar invasions the tradition has carried on with special karwa chauth pooja thali. Today, this festival is celebrated in a grand style and is even depicted in movies as a larger-than-life phenomenon.

What does the word ‘Karwa Chauth’ mean?

The word Karwa Chauth has a specific meaning. Karwa or Karva means earthen pot while chauth means fourth. So, Karwa Chauth is basically about offering Arghya to the moon using ‘Karwa’on Chaturthi during the Hindu month of Kartik.

It is observed on the fourth day of Krishna Paksha in the month of Kartik. This festival is mostly celebrated in the North and North-western parts of India; primarily in Punjab, Rajasthan, Haryana, Gujarat, and Uttar Pradesh.

Stories associated with the festival

The first goes back to the Mahabharata. When Arjuna went to the Nilgiris for penance the rest of the Pandavas faced many problems. At that point their wife Draupadi remembered Sri Krishna and asked him for help who advised her to observe the fast. Draupadi followed the instructions subsequent to which the Pandavas overcame their problems.

Another story is of a devout wife Karwa. One day her husband was caught by a crocodile and sure to face death. Because of love for her husband she bound the crocodile with cotton yarn and asked Yamraj, the Lord of Death, to return the life of her husband. When Yamraj refused she threatened to curse him. Being afraid of her devotion Yamraj sent the crocodile to hell and blessed her husband with a long life. Such is the power of a wife’s devotion.

There are many similar stories of brave women who brought back their husbands from the death knell. The story of Satyavan and Savitri, Veeravati are also associated with KC.

Who celebrates Karwa Chauth?

Karwa Chauth is mostly celebrated by married Sikh and Hindu woman who fast for the long lives of their husbands. The idea behind celebrating this festival is to pray and wish for the longevity, well-being, and prosperity, of the husband with a karwa chauth thali set. This festival celebrates the beautiful relationship between husband and wife. Husband’s also in return get a karwa chauth gift for wife on this special occasion. In contemporary times many men have started fasting and participating in the rituals as well. It has become a way of expressing love for their wives or are influenced by the western concept of equality. Anyway it is nice to see men fast for their wives. In many states unmarried women also fast to get the desired life-partner.

The rituals of Karwa Chauth

Although the rituals vary by region there are certain common customs which we shall explain in detail. On this day mainly Shivji, his wife Parvati and sons Ganesha & Kartikeya are worshipped. Goddess Chauth Mata is also worshipped by women.

Karwa has a special significance on this festival; it is basically a small pitcher which is used for offering Arghya and given as charity at the end of fasting. Usually, fasting and prayers are carried out in groups. Fasting is an important part of this festival. It starts with sunrise and women break it only after offering Arghya to the moon. Most married women do not even take a drop of water until moonrise.

In some parts of India, married women wakeup in the wee hours to eat "sargi" which is a special meal prepared by their mother-in-laws. Sargi consists of fruits, home-cooked sweets, mathri and dry fruits. It is a gift or a token of a mother-in-law’s gratitude to her son’s wife who prays for his long life and prosperity. After eating Sargi women stay without consuming water and food all day i.e. until the moon rises.

Therefore, Karva Chauth is the festival that creates a special bond between the mother and daughter-in-law. In some parts of north India, parents send gifts and sweets to their married daughters. Women dress up in bright and colorful traditional dresses. Newlywed ladies wear lehenga choli or their wedding sari. They apply mehndi and wear heavy Jewellery on this auspicious occasion. Colourful rangolis are drawn in the front yard and melodious folk songs and bhajans sung.

In every household, traditional and delicious food items are prepared but this delicious feast is partaken only after the evening with a karwa chauth pooja thali. The karwa chauth thali set is decorated with gota patti and sparkling cloth-piece. Sweets, fenia, dry fruits, matthi and kheer are carefully arranged on this plate.

After morning preparations, women in the neighbourhood get together at someone’s household for the evening rituals. They decorate the karwa chauth thali with an idol of goddess Parvati. A few hours before moonrise old ladies narrate the story of the Karwa Chauth Mahatmya.

After this ladies sit in a circle and pray to goddess Parvati for their husband’s welfare and marital bliss. Lastly, the women chant their holy hymn and pass their pooja thalis around in the circle. After pooja, women wait for the moon to rise.

At moonrise, women begin lighting beautifully decorated diyas; they also offer prayers to the moon while chanting mantras. Beautifully decorated Karwa or clay pots are filled with milk, water, coins or precious stones. They see the moon through a round shape sieve and offer Arghya to the moon using their ‘Karwas’. After that, they look at their husbands through the same sieve and pray for his long life.

The fast is broken when the husband offers his wife the first sip of water and morsel of food. This is followed by a sumptuous feast. On this day, husbands get Karwa Chauth gifts for wife to shower their wives with gifts for e.g. jewelry. These traditional rituals add charm and bliss in the relationship of husband and wife. Love and care is the foundation of any marriage and festivals like these make this foundation even stronger. Karwa Chauth is after all a festival of love, care, faith and devotion.

The Story of Karwa

There was a woman named Karwa who was deeply in love with her husband and this intense love gave her lots of spiritual powers. Once her husband was bathing in a river and that was when he was attacked by a crocodile. Now the courageous Karwa bound the crocodile with a cotton yarn and remembered Yama the Lord of death. Yama was seriously afraid of being cursed by such a devoted and doting wife and thus he sent the crocodile to hell and gave life back to her husband. The Story of Satyavan and Savitri: It is said that when Yama, the God of death came to acquire Satyavan's life, Savitri begged in front of Yama to grant him life. But Yama was adamant and seeing that Savitri stopped eating and drinking and followed Yama as he took her husband away. Yama now said Savitri that she can ask of any other boon except the life of her husband. Savitri being a very clever woman asked Yama that she wants to be blessed with children. She is a devoted and loyal wife and won't let any kind of adultery. Thus, Yama had to restore the life into Satyavan so that Savitri can have children.

करवा चौथ मनाएं ‘माय पूजा बॉक्स ‘ के गिफ्ट्स के साथ

हमारे देश का सबसे खूबसूरत हिस्सा इसकी समृद्ध और विविध संस्कृति है। यहां हर त्यौहार बड़े धूमधाम से मनाया जाता है। नवरात्रि से लेकर धनतेरस तक गुढीपाडवा से लेकर करवा चौथ तक,भारत सभी त्यौहारों को अपनी बाहों में समेट लेता है। करवा चौथ शादी की सुंदरता को दर्शाता है। इस दिन विवाहित महिलाएं अपने पति की लंबी उम्र के लिए उपवास रखती है। पति उपहारों के सहारे अपनी प्रशंसा दिखाते है,जो इस त्यौहार के उत्साह को बढ़ाता है।

करवा चौथ मनाने के लिए ‘माय पूजा बॉक्स’ लाया है करवा चौथ थाली सेट, करवा चौथ पूजा सामग्री, ज्वेलरी, महिलाओं के लिए करवाचौथ गिफ्ट्स की विस्तृत श्रृंखला। साल 2019 में करवा चौथ 17 अक्टूबर को होगा। भारत महत्त्पूर्ण त्यौहारों का देश है,जिसमें से करवा चौथ विवाहित महिलाओं के लिए खास उत्सव है।

करवा चौथ का महत्त्व

विभिन्न प्रकार के त्यौहार,एक से बढ़कर एक रोचक और अनोखे रीति-रिवाज भारत को बहुत ही अद्भुत और जीवंत देश बनाते है। ये त्यौहार और अनुष्ठान अपनी समृद्ध सांस्कृतिक विरासत की सच्ची अभिव्यक्ति है। उत्सव खुशी और यादों का एक स्त्रोत है,जैसे की त्यौहारों के बाद भी मन में उत्सव की भावना गूंजती रहती है। एक ऐसा ही त्यौहार है करवा चौथ,जो विवाहित महिलाओं के लिए काफी महत्त्वपूर्ण होता है। सभी विवाहित महिलाएं करवा चौथ को प्यार,पवित्रता और खुशी के साथ मनाती है। हर विवाहित महिला अपनी उम्र की परवाह किए बिना इस शुभ दिन की प्रतीक्षा करती हैं।

करवा चौथ का त्यौहार उत्तर भारत विशेष रुप से नवविवाहित हिन्दू और सिख जोड़ों में लोकप्रिय है। हालांकि हिन्दी टीवी सिरियल्स की वजह से भी ये त्यौहार पूरे भारत में जाना जाता है। करवा चौथ पर विवाहित महिलाएं अपने प्रिय पति की खुशी,समृद्धि और लंबे जीवन के लिए व्रत रखती हैं। उपवास वैसे तो कठोर माना जाता है,लेकिन महिलाएं अपने स्वास्थ्य के अनुरूप मानदंडों को समायोजित करती है।

करवा चौथ के त्यौहार से हफ्तों पहले तैयारियां शुरू हो जाती है,इस दौरान बाजार रंगीन पूजा सामग्री से भरे होते है जैसे करवा,डेकोरिटिव करवा चौथ थाली सेट,माता पार्वती की मूर्ति और पत्नियों के लिए उपहार जो उनके पति देते है।

क्यों करवा चौथ उत्तर भारत में लोकप्रिय है ?

वैसे तो पूरे भारतवर्ष में हिंदू धर्म को मानने वाले लोग इस त्यौहार को मनाते हैं लेकिन उत्तर भारत खासकर पंजाब, हरियाणा, राजस्थान, उत्तर प्रदेश, मध्यप्रदेश आदि में तो इस पर्व का सबसे ज्यादा महत्व है। करवाचौथ व्रत के दिन शाम से पूजा का सिलसिला प्रारंभ हो जाता है। जहां पंजाब, हरियाणा में महिलायें समूह में बैठ कर करवे के गीत गाते हुए आपस में पूजा की थाली बदलती हैं, वहीं शेष उत्तर भारत में व्रत करने वाली स्त्रियां करवे और श्री गणेश की पूजा करके कथा सुनती हैं। इसके बाद शाम ढलते ही सभी जगह चांद का दर्शन कर उसे अर्ध्य देने का इंतजार प्रारंभ हो जाता है। चांद निकलने पर सारा दिन पति की लंबी उम्र के लिये व्रत रखने के बाद महिलायें उसकी पूजा करती है और अर्ध्य देने बाद अपना उपवास खोलती हैं।

करवा चौथ शब्द का मतलब क्या होता है ?

करवा चौथ शब्द का एक विशिष्ट अर्थ है. करवा चौथ शब्द दो शब्दों से मिलकर बना है,करवा यानी मिट्टी का बरतन और चौथ यानी चतुर्थी। इस त्यौहार पर मिट्टी के बरतन यानी करवे का विशेष महत्त्व माना गया है। करवा चौथ का पर्व कार्तिक महीने की कृष्णा पक्ष चतुर्थी पर पड़ता है। करवा चौथ मूल रुप से हिन्दूओं के कार्तिक महीने में चतुर्थी के दौरान करवा से चंद्रमा को अर्ध्य देने को कहा गया है।

करवा चौथ से जुड़ी कहानियां

एक बार पांडु पुत्र अर्जुन तपस्या करने नीलगिरी नामक पर्वत पर गए। इधर द्रोपदी बहुत परेशान थीं। उनकी कोई खबर न मिलने पर उन्होंने कृष्ण भगवान का ध्यान किया और अपनी चिंता व्यक्त की। कृष्ण भगवान ने करवा चौथ का व्रत बतलाया। इस व्रत को करने से स्त्रियाँ अपने सुहाग की रक्षा हर आने वाले संकट से कर सकती हैं। एक समय की बात है कि एक करवा नाम की पतिव्रता स्त्री अपने पति के साथ नदी के किनारे के गाँव में रहती थी। एक दिन उसका पति नदी में स्नान करने गया। स्नान करते समय वहाँ एक मगर ने उसका पैर पकड़ लिया।

आवाज सुनकर उसकी पत्नी करवा भागी चली आई और आकर मगर को कच्चे धागे से बाँध दिया। मगर को बाँधकर यमराज के यहाँ पहुँची और यमराज से मगर को नरक भेजने के लिए कहा।

ऐसा नहीं करने पर श्राप देकर नष्ट करने की बात कही। सुनकर यमराज डर गए और उस पतिव्रता करवा के साथ आकर मगर को यमपुरी भेज दिया और करवा के पति को दीर्घायु दी। इस तरह की कई ऐसी बहादुर महिलाओं की कहानियां है जिन्होंने अपने पति के प्राण बचाए जिसमें वीरवती और सत्यवान-सावित्रि की कथाएं शामिल है।

कौन मनाता है करवा चौथ ?

करवा चौथ ज्यादातर विवाहित सिख और हिन्दू महिलाएं द्वारा मनाया जाता है,जो अपने पति की लंबी उम्र के लिए उपवास करती है। इस त्यौहार को मनाने के पीछे विचार ये है कि पति की लंबी उम्र,कल्याण और समृद्धि की कामना की जाए। ये त्यौहार पति और पत्नी के बीच के सुंदर संबंधों का जश्न मनाता है।इस खास मौके पर पति भी अपनी धर्मपत्नी के लिए खास उपहार लाते है।आजकल तो पुरुषों ने भी उपवास करना शुरू कर दिया है और अनुष्ठानों में बढ़चढ़कर भाग लेते है। यह उनकी पत्नियों के प्रति प्रेम व्यक्त करने का एक तरीका बन गया है या पश्चिमी अवधारणा से प्रभावित होते है।वैसे भी पुरुषों को अपनी पत्नियों के लिए उपवास करते देखना अच्छा लगता है। कई राज्यों में अविवाहित महिलाएं भी मनचाहा जीवनसाथी पाने के लिए व्रत रखती हैं।

करवा चौथ के अनुष्ठान

हालांकि अनुष्ठान क्षेत्र के अनुसार भिन्न होते है,लेकिन कुछ सामान्य रीति-रिवाज हैं जिन्हें हम विस्तार से बताएंगे। इस दिन मुख्य रुप से शिवजी,उनकी पत्नी पार्वती और पुत्र गणेश-कार्तिकेय की पूजा की जाती है। महिलाओं द्वारा देवी चौथ माता की भी पूजा की जाती है।इस पर्व पर करवा का विशेष मह्त्त्व है,यह मूल रुप से एक छोटा घड़ा है,जिसका उपयोग अर्घ्य चढ़ाने के लिए किया जाता है और उपवास के अंत में दान के रुप में दिया जाता है। आमतौर पर उपवास और प्रार्थनाएं समूहों में की जाती है। उपवास इस त्यौहार का एक महत्त्वपूर्ण हिस्सा है। इसकी शुरूआत सूर्योदय से होती है और महिलाएं चंद्रमा को अर्घ्य देने के बाद ही इसे तोड़ती हैं। अधिकांश विवाहित महिलाएं चंद्रोदय तक पानी की एक बूंद भी नहीं लेती हैं।

भारत के कुछ हिस्सों में शादीशुदा महिलाएं ‘सरगी’ खाने के लिए सूर्योदय से पहले उठती है,जो उनकी सास द्वारा बनाया गया विशेष भोजन होता है।सरगी में फल,घर की बनी मिठाईयां,मठरी और ड्राय फ्रूट्स शामिल होते है।यह एक सास का उपहार या अपने बेटे की पत्नी का आभार है जो लंबे जीवन और समृद्धि के लिए प्रार्थना करती है। सरगी खाने के बाद महिलाएं दिन भर बिना अन्न-जल ग्रहण किए चांद का इंतजार करती हैं।

देखा जाए तो करवाचौथ से सास और बहू के बीच एक खास रिश्ता बन जाता है।उत्तर भारत के कुछ हिस्सों में,माता-पिता अपनी विवाहित बेटियों को उपहार और मिठाई भेजते है। महिलाएं चमकीले और रंगीन पारंपरिक कपड़े पहनती हैं। नवविवाहित महिलाएं अपने शादी के जोड़े या लहंगा-चोली पहनती हैं। इस शुभ दिन पर वो हाथों में मेहंदी लगवाती है और खूब गहनें पहनती हैं। रंगबिरंगी रंगोली से घर को सजाया जाता है और मधुर लोकगीत के साथ भजन भी गाए जाते हैं।

हर घर में,पारंपरिक और स्वादिष्ट खाद्य सामग्री तैयारी की जाती है,लेकिन ये दावत शाम के बाद करवा चौथ थाली से पूजा के बाद ही होती है। करवा चौथ थाली को गोटा-पट्टी और चमचमाते कपड़े से सजाया जाता है। जिसपर बड़े ही सावधानी से मिठाईयां,फेनिया,ड्राय फ्रूट्स,मट्ठी और खीर रखी जाती है।

सुबह की तैयारियों के बाद,महिलाएं आस पड़ोस की विवाहित औरतों के साथ मिलकर शाम की पूजा की तैयारी में लग जाती हैं। सभी देवी पार्वती की मूर्ति के साथ करवा चौथ की थाली सजाती हैं। चंद्रोदय से कुछ घंटे पहले महिलाएं साथ बैठकर करवाचौथ की कहानियां सुनाती हैं। इसके बाद महिलाएं एक मंडली में बैठती हैं और देवी पार्वती से पति के कल्याण और वैवाहिक आनंद की प्रार्थना करती हैं। अंत में महिलाएं अपने पवित्र भजन का जाप करके करवा चौथ थाली को घेरे में रखती हैं। पूजा के बाद महिलाएं चांद के आने का इंताजर करती हैं।

चांद के उगने के बाद महिलाएं खूबसूरत तरीके से सजाए हुए दीपक जलाती हैं, फिर चांद की पूजा करती हैं। करवे में दूध,पानी और सिक्के डालकर रखे जाते हैं। चांद को गोल छलनी से देखकर करवे से चांद को अर्घ्य दिया जाता है। जिसके बाद उसी छलनी से पत्नी अपने पति को देखकर उनकी लंबी उम्र की प्रार्थना करती है।

पति के द्वारा पानी का पहला घूट पीकर ही पत्नी का व्रत टूटता है। जिसके बाद होती है शानदार दावत। इस मौके पर पति अपनी धर्मपत्नी को करवा चौथ गिफ्ट्स जैसे गहने आदि देते है।

यह पारंपरिक अनुष्ठान पति और पत्नी के रिश्ते में आकर्षण और आनंद को जोड़ते हैं। प्यार और देखभाल किसी भी शादी और त्यौहारों की नींव है, उसी तरह ये त्यौहार भी इस नींव को और मजबूत बनाते है। आखिरकार करवा चौथ त्यौहार है प्यार,देखभाल,विश्वास और भक्ति का।

करवा की कहानी

करवा नाम की एक महिला थी जो अपने पति से गहरा प्रेम करती थी और इसी प्यार ने उसे बहुत सारी आध्यात्मिक शक्तियां दीं। एक बार महिला का पति नहाने के लिए नदी में गया,वहां एक मगरमच्छ ने उसपर हमला कर दिया। साहसी करवा ने मगरमच्छ को सूत के धागे से बांध दिया और मृत्यु के स्वामी यम को याद करने लगी। यम ने गंभीर रुप से समर्पित पत्नी के श्राप के डर से मगरमच्छ को नरक भेज दिया और करवा के पति को वापस जीवन दे दिया।

सत्यवान और सावित्रि की कहानी : कहा जाता है कि जब मृत्यु के देवता यम सत्यवान का जीवन लेने आए तब सावित्रि ने यम से अपने पति को जीवन प्रदान करने कहा। लेकिन यम अड़े रहे,देखते ही देखते सावित्रि ने खाना-पीना बंद कर दिया और यम का पालन किया। यम ने सावित्रि से कहा कि वह अपने पति के जीवन को छोड़कर अन्य वरदान मांग सकती है। सावित्रि ने चालाकी से यम से बच्चों का आर्शीवाद मांगा। एक समर्पित और निष्ठावान पत्नी होने के चलते यम को सावित्रि की बात माननी पड़ी और सत्वान को जीवन प्रदान कर सावित्रि को मनचाहा आर्शीवाद दिया।

View More +

Thank you!

Your message has been successfully sent. We will contact you very soon!

Whatsapp Us