Shop By Category

Back

Diwali

Wish your Loved Ones with Unique Diwali Gifts Online

India is a land of festivals. Many festivals are celebrated here with great pomp and show. Each festival has a religious or mythological significance behind it.

Diwali is one of them. It is the festival of lights. It is celebrated for several days. Celebrate the festival of lights- Diwali with our wide variety of gifts and ideas reverberating with festive vibes. From Diwali puja for Laxmi Ganesh to gifting needs, we cover every purpose well. We have decorative diyas, candles, lamps, lanterns, unique diwali gifts for family, diwali home decoration items, custom diwali puja samagri kit or Laxmi Puja Kit and murtis that you can send to your family, friends, employees and clients.

Those looking for diwali gifts online shopping decoration ideas can explore our home decor collection brimming with torans, wall hangings, paintings, diwali gift packs, diwali gift hampers and more. Set the mood of your home in accordance with this festival and cherish the spirit to the fullest.

Diwali is the most significant Hindu festival celebrated all over the India in the autumn season every year. The spiritual significance of this festival indicates the victory of light over darkness. It is a five days long festival celebrated by the people with huge preparations and rituals. Many days ago of the festival, people start cleaning, renovating and decorating their homes and offices. They purchase unique diwali gifts, new dresses, luxury diwali gift box, decorative things like diyas, lamps, candles, puja materials, statue of god and goddess and eating things especially for this occasion and diwali gifts online as well to send as a present to their family and friends as a tradition.

It is a festival for diwali gifts online shopping. Laxmi Pooja is performed. Shopkeepers perform pooja in their shops as well as at home and also keep unique diwali gifts to increase their sales during festive period. People greet their relatives and friends with sweets and crackers. Shops are lighted with colourful bulbs and attract a huge crowd.

The evening is the most interesting part of the day when houses are illuminated with earthen lamps or candles. Children burst crackers. One hears the sound of bursting bombs across the city. Everyone looks happy.

Most of the people worship the goddess of wealth ‘Lakshmi’. They pray her to give them wealth. Some people start their new business from this very day.

People do worship of God Ganesha and Goddess Lakshmi for getting wealth and prosperity in their life. They perform puja on main Diwali with lots of rituals. After puja, they get involved in the fireworks activities and then send unique diwali gifts to each other and among neighbors, family members, friends, offices, etc. People celebrate Dhanteras on first day in which they buy diwalli gifts for family, Naraka Chaturdasi on second day, Diwali on third day, on this day people send diwali gifts online to their relatives, Diwali Padva (Govardhan Puja) on fourth day, and Bhai Dooj on fifth day of the festival. It becomes official holiday in many countries on the day of festival.

Hindus light up their homes and shops, to welcome Goddess Lakshmi, to give them good luck for the year ahead. They offer prayers to shower wealth and good fortune on them. People start the new businesses and pray for a successful year. Lamps are lit to help Lakshmi, the goddess of wealth, find her way into people’s homes.

Gambling is also common on Diwali day. Gambling is evil. Diwali gives the message of joy and happiness and not to lose money. Diwali is considered the best festival all over India.

It is called rightly the festival of lights. It gives a message of love, brotherhood and festival. The hearts of everyone should be illuminated by light like houses and shops.

Celebration of Diwali with Family without Crackers

Diwali is everybody’s favorite festival of the year and we celebrate it with lots of enthusiasm with our family members and friends. Diwali is called as the festival of lights because we celebrate it by lighting lots of diyas and candles. It is a traditional and cultural festival celebrated by each and every Hindu person all over India and abroad. People decorate their houses with lots of candles and small clay oil lamps indicating the victory of good over evil and also send diwali gifts online to family and friends staying overseas or in some other part of the country.

Family members spend their most of the day time in preparing house (cleaning, decorating, etc) to welcome the festival with grand evening party. They buy diwali gifts for family online and send unique gifts to their loved ones. Neighbors, family members, and friends gets collected in the evening party and enjoy the party with lots of delicious Indian dishes, dance, music, etc all through the night. Houses look very attractive in whitewash, candle lights and rangolis. High pitch music and fireworks makes the celebration more interesting.

People go to their home by taking off from their job, offices and other works, students also book their train around three months ago to easily go to their home on Diwali festival because everyone wants to celebrate this festival with their family members in the hometown. People generally enjoy the festival by feasting, bursting crackers and enjoying the dance with family and friends.

However, it is prohibited by the doctors to go outside and enjoy firecrackers especially people suffering from lung or heart diseases, hypertension, diabetes, etc. Such people have to knock the doctor’s door because of consuming highly saturated food and sweets in high amount and lack of exercises and pollution caused by crackers in these days.

Significance of Diwali

Diwali festival is celebrated by the people with great revelry and lots of fun and frolic activities. It becomes the happiest holiday for Indian people in the year and celebrated with significant preparations while buying diwali gifts for family online. It is the festival of high significance for Indian people during which people clean their homes, decorate, do shopping, buy diwali gifts through online shopping like kitchen utensils, appliances, cars, golden jewelry, etc and perform so many rituals.

There are many ancient stories, legends, and myths about celebrating this festival. Girls and women of the home do shopping and make rangolis in creative patterns on the floors near to the doors and walkways of home. There are little variations in the celebration of this festival according to the regional practices and rituals.

The spiritual significance of this festival symbolizes the victory of light over darkness and victory of good over evil. It is celebrated to honor the Goddess of wealth, Lakshmi and God of wisdom, Ganesha. Its religious significance varies according to the region all through the country. Somewhere, it is celebrated to honor the returning of Rama, Sita and Lakshmana to their home after long exile period of 14 years (according to Hindu epic Ramayana).

Some people celebrate it to remember the return of Pandavas to their kingdom after 12 years of Vanvas and one year of agyatavas (according to Hindu epic Mahabharata). It is also believed that it was started celebrating when Goddess Lakshmi was born after churning the ocean by the gods and demons. Diwali celebration also indicates the start of a new Hindu year in the west and some northern parts of India. It is celebrated by the people of Sikh religion to mark the Bandi Chhor Divas by lighting up the Golden Temple. It is celebrated by the people of Jain religion to mark the Nirvana attained by the Mahavira.

Pollution on Diwali

Sadly, there is an increase in the environmental pollution with the celebration. This is because of the bursting of various types of firecrackers during this festival. They are hazardous as they release toxic pollutants like carbon monoxide, carbon dioxide, and others which get mixed with the air and cause several deadly diseases. It affects the people of all age groups. Not only human beings, but it also affects the lives of animals, birds and other living beings. However, these days, Government is striving hard to reduce this. Schools and various organizations are striving to educate the people for the pollution-free festival. Media is also supporting this. Programs on television and radio are aired asking citizens to curb the noise and stay safe. Supreme Court has banned the bursting sound-emitting crackers. Therefore, we must practice celebrating the pollution free Diwali every year and save the environment.

Conclusion

Now-a-days, there is a campaign run by the government to celebrate pollution free Diwali all over the country. Schools and various organizations also organize various demonstrations prior to the celebration to educate and aware students for pollution-free festival. Environment and pollution departments also do many efforts by publishing pollution free news in the various newspapers to aware people and curb noise and air pollution because of firecrackers. Bursting sound-emitting firecrackers has been banned by the Supreme Court especially during 10 pm to 6 am. Air and water pollution is also caused by the decay of remnants of fireworks and deluge of garbage like empty bottles, papers used to light off rockets, gift wrappers, dried flowers, etc at the nook and corners of the city.

We all should practice celebrating the pollution free Diwali every year in order to save and enjoy the natural beauty of environment forever. In all Diwali is a festival where people keep hard feelings aside, try forgetting their problems and enjoy this day to the fullest. This festival enriches the friendship and feeling of brotherhood. In conclusion, Diwali not only brings people together but provides the purpose, meaning and hope through the use of rituals and celebrations.

 

अपने प्रियजनों के लिए ऑनलाइन खरीदें यूनिक दिवाली गिफ्ट्स

भारत त्यौहारों का देश है.यहां कई प्रकार के त्यौहार पूरे साल ही आते रहते है.हर त्यौहार की अपनी अलग पौराणिक महत्ता है.दिवाली उन्हीं में से एक है.दीपावली को दीपों का त्यौहार भी कहा जाता है.ये कई दिनों तक मनाई जाती है.अपनी दीवाली को आप और खूबसूरत बना सकते है ‘माय पूजा बॉक्स’ के गिफ्ट्स कलेक्शन से. इस सबसे महत्त्वपूर्ण त्यौहार पर हमने लक्ष्मी गणेश से लेकर हर वो चीज लाई है जो आपके लिए जरुरी है.हमारे पास है आकर्षक दिये, कैंडल्स, लैंप्स, लैंटर्न्स,परिवार के लिए यूनिक गिफ्ट्स,कस्टम पूजा सामग्री किट,लक्ष्मी पूजा किट,भगवान की प्रतिमाएं जिन्हें आप अपने रिश्तेदारों,दोस्तों और क्लाइंट्स को गिफ्ट कर सकते है.

दिवाली गिफ्ट्स ऑनलाइन खरीदने के लिए ‘माय पूजा बॉक्स’ पर ढेरों ऑप्शन्स है.हमारी वेबसाइट या एप्लिकेशन के जरिए आप होम डेकोर सेक्शन से तोरन,वॉल हैंगिंग्स,पेंटिंग्स,दिवाली गिफ्ट पैक,दिवाली गिफ्ट हैम्पर्स जैसी चीजें देख सकते है. तो इस दीवाली खुद के साथ घर को भी सजाने-संवारने की तैयारी शुरू कर दीजिए.

सभी त्यौहारों में दीवाली सबसे महत्त्वपूर्ण मानी जाती है जो हर साल पतझड़ के मौसम में आती है.दीपावली यानी अंधकार पर प्रकाश की विजय.यही इस त्यौहार की आध्यात्मिक महत्ता है.ये पांच दिनों तक मनाया जाने वाला त्यौहार है जिसमें कई रिति-रिवाज और तैयारियां लगती है.इसके आने से कई दिनों पहले ही लोग अपने घरों की साफ-सफाई शुरू कर देते है.चाहे घर हो या ऑफिस हर जगह को सजाया जाता है.ये एक ऐसा त्यौहार है जिसमें खूब सारी शॉपिंग होती है.नए कपड़ें,गिफ्ट आइट्म्स,डेकोरेटिव दिये,लैंप्स,मोमबत्तियां,पूजा सामग्री,भगवान की मूर्तियां और पकवान. अब तो ऑनलाइन ही इन सबकी की खरीदारी आसानी से हो जाती है. दिवाली त्यौहार है ऑनलाइन गिफ्ट शॉपिंग का. दुकानदार अपने घर और दुकान में दिवाली के दिन लक्ष्मी पूजा करते है. दिवाली आने से पहले ही दुकानदार अपनी दुकानों को दिवाली गिफ्ट्स से भर लेते है. दुल्हन की तरह दुकानों को सजा दिया जाता है. बाजार की रौनक देखते ही बनती है.

शाम होते ही हर किसी का घर जगमगाने लगता है.लोग माता लक्ष्मी की पूजा करते है ताकि उनके घर परिवार में धन की वर्षा होते रहे.यही नहीं कुछ तो इसी दिन से नए व्यापार की शुरूआत करना शुभ मानते है.

दिवाली पर हर कोई सुख समृद्धि संपत्ति के लिए भगवान गणेश और माता लक्ष्मी की पूजा करता है. सारी रस्में निभाने के बाद आरती होती है. प्रसाद बांटकर दीप जलाए जाते है. मिलजुल कर पटाखे फोड़े जाते है. रिश्तेदारों और पड़ोसियों के घर शुभकामनाओं के साथ मिठाईयां भेजने की परंपरा आज भी कायम है.इसी बहाने आपके घर पर भी मिठाई के डिब्बों का अंबार लग जाता है. दिवाली पांच दिनों का त्योहार है.ऐसे में लोग उपहारों की शॉपिंग दिवाली के पहले दिन यानी धनतेरस पर ही कर लेते है या ऑनलाइन ऑर्डर कर दोस्तों के घर पर डिलिवर कराते है. नरक चतुर्दशी दिवाली का दूसरा दिन होता है. तीसरे दिन दिवाली मनाई जाती है फिर चौथे दिन होती है गोवर्धन पूजा और आखिर में यानी पांचवे दिन होता है भाई दूज.

भारत में सरकार की तरफ से दिवाली की छुट्टी होती है. हिन्दू अपनी दुकानों और घर पर माता लक्ष्मी के स्वागत में दीपों की रोशनी करते है ताकि उनकी कृपा साल भर उनपर बने रहे. अंधकार पर प्रकाश की विजय का ये पर्व समाज में उल्लास,भाई-चारे और प्रेम का संदेश फैलाता है. दिवाली पर ताश खेलने की प्रथा है. लक्ष्मी पूजा के बाद भोजन आदि करने के पश्चात् कार्ड खेलने को शुभ माना जाता है.

भारतीय संस्कृति में अधिकांश त्योहार किसी मंदिर,धार्मिक स्थल,नदियों के किनारे या किसी सार्वजनिक स्थल पर एकत्रित होकर सामूहिक रुप से मनाए जाते है. लेकिन सुख-समृद्धि और ऐश्वर्य की कामना के साथ हम दीपावली अपने घर पर मनाते है.

बिना पटाखों के मनाएं दिवाली

दिवाली भारत में मनाया जाने वाला सबसे बड़ा त्यौहार है जिसका सालभर इंतजार होता है. इसे दीपों का त्यौहार कहा जाता है. इस दिन दीप जलाए जाते है. लोग बड़े उत्साह के साथ इस त्यौहार को मनाते है.जो लोग नौकरी करते है उन्हें दीपावली मनाने के लिए कुछ दिनों छुट्टी भी दी जाती है ताकि वो अपने परिवार के साथ खुशी से दीपावली मना सकें. इसे अक्टूबर या नवम्बर के महीने में मनाया जाता है. इस दिन सभी दीपों की पंक्ति बनाकर अंधकार को मिटाने में जुट जाते है और अमावस्या की अंधेरी रात जगमग असंख्य दियों से जगमगाने लगती है.

घर के लोग अपना ज्यादातर वक्त घर की साफ-सफाई और सजावट में लगाते है. शाम को पूजा के बाद दोस्तो और रिश्तेदारों के आने का सिलसिला शूरू हो जाता है. जिनके लिए गिफ्ट्स की शॉपिंग लोग पहले ही कर लेते है. आजकल ऑनलाइन शॉपिंग काफी ट्रेंड कर रहा है. जिससे जिन दोस्तों से दिवाली पर आप नहीं मिल पाते,जो अगर आपसे सात समंदर पार रहते है,तो उन्हें उनके घर गिफ्ट्स डिलिवर करा देते है.

लोग खासकर दिवाली पर छुट्टी लेकर अपने घर जाते है. स्टूडेंट्स दिवाली पर घर जाने के लिए कई महीनों पहले से ट्रेन की टिकट करा लेते है. आखिर इस खास दिन पर हर कोई अपने परिवार के साथ एंजॉय करना चाहता है. आमतौर पर लोग इस त्यौहार पर फुलझड़ियां जलाते है,पटाखे फोड़ते है और आतिश्बादी करते है.

हालांकि जो मरीज दिल की बिमारी,हायपरटेंशन या डायबिटीज से पीड़ित है उन्हें डॉक्टर्स इस दौरान घर से बाहर निकलने और मीठाई का सेवन ना करने की सलाह देते है.दिवाली में पटाखों की धूम नहीं हो तो कुछ कमी सी लगती है.लेकिन अगर पटाखें हमारे स्वास्थ्य को नुकसान या पर्यावरण को नुकसान पहुंचा रहे है तो हमें इनका इस्तेमाल नहीं करना चाहिए.

दिवाली का महत्त्व

दिवाली मतलब प्रकाश का पर्व.मुनष्य के जीवन में प्रकाश का काफी महत्त्व होता है.हमारे जीवन में रोशनी के बढ़ने का मतलब होता है एक नई शुरूआत.लोग पाप पर सत्य की विजय का आनंद लेने के लिए दिवाली मनाते है. माना जाता है कि इस दिन दीप जलाने से बुरी ऊर्जा को अच्छी ऊर्जी मिटा देती है.दीपावली का पर्व कार्तिक मास की अमावस्या को हर वर्ष मनाया जाता है क्योंकि भगवान राम अमावस्य की रात ही अयोध्या लौटे थे.

दीवाली वास्तव में मिलन का त्योहार है. जिसमें सभी अपनों से मिलते है और खुशियां बांटते है. आज की व्यस्त जिन्दगी में त्यौहार का महत्त्व बढ़ गया है. त्यौहार के कारण सभी अपने परिवारजनों से मिलते है. दो पल खुशी के बिताते है जिससे रिश्ते मजबूत होते है सभी छोटे-मोटे मनमुटाव दूर हो जाते है.

त्यौहार रिश्तों में आई दूरियों को कम करने में अहम भूमिका निभाते है और आज के वक्त में इसका सबसे ज्यादा महत्त्व वृद्ध व्यक्ति समझते है. दीपावली व्यापारियों का भी विशेष पर्व माना जाता है. इससे उनका नया वर्ष प्रारंभ होता है और सालभर का लेखा-जोखा खत्म कर नए खाता बही तैयार किए जाते है. भारतवर्ष में मनाए जाने वाले सभी त्यौहारों में दीपावली का सामाजिक और धार्मिक दोनों दृष्टि से अत्यधिक महत्त्व है.इसे दीपोत्सव भी कहते हैं. इसे सिख, बौद्ध तथा जैन धर्म के लोग भी मनाते हैं. जैन धर्म के लोग इसे महावीर के मोक्ष दिवस के रूप में मनाते हैं तथा सिख समुदाय इसे बन्दी छोड़ दिवस के रूप में मनाते है. हिन्दू महाकाव्य रामायण के अनुसार दीपावली का त्यौहार श्री राम भगवान, सीता माता और लक्ष्मण के 14 वर्ष के वनवास के बाद अयोध्या लौटने की खुशी में मनाया जाता है. भारत के कुछ क्षेत्रों में महाकाव्य महाभारत के अनुसार दीपावली त्यौहार को पांडवों के 12 वर्ष के वनवास और 1 वर्ष के अज्ञातवास के बाद लौटने की खुशी में भी मनाया जाता है.

ऐसा भी माना जाता है कि इस दिन देवी-देवताओं और राक्षसों द्वारा समुद्र मंथन करते समय माता लक्ष्मी का जन्म हुआ था. भारत के कुछ पूर्वी और उत्तरी क्षेत्रों में नव हिंदी वर्ष के रूप में भी इस त्यौहार को मनाया जाता है.

दिवाली पर प्रदूषण

दिवाली खुशियों और रोशनी का त्यौहार है लेकिन दिवाली पर छोड़े जाने वाले तेज आवाज के पटाखे पर्यावरण पर कहर बरपाने के अलावा जन स्वास्थ्य के लिए भी खतरा पैदा करते है. दिवाली के दौरान पटाखों एवं आतिशबाजी के कारण दिल के दौरे, रक्त चाप, दमा, एलर्जी, ब्रोंकाइटिस और निमोनिया जैसी स्वास्थ्य समस्याओं का खतरा बढ़ जाता है इसलिये दमा एवं दिल के मरीजों को खास तौर पर सावधानियां बरतनी चाहिये. सरकार लगातार ऐसे अभियान चला रही है जिससे लोगों को जागरुक किया जा सके. स्कूल और कॉलेज में भी बच्चों को बिना पटाखों की दिवाली मनाने की सरकार के तरफ से नसीहत दी जाती है.यहां तक की सुप्रीम कोर्ट की तरफ से तेज आवाज करने वाले पटाखों पर बैन लगाने का सख्त निर्देश है.मीडिया में भी कई तरह के प्रोग्राम्स चलाए जाते है जिसे देखकर लोग ध्वनि प्रदूषण को कम करने की कोशिश कर सकते है. कुल मिलाकर बिना पटाखों वाली दिवाली मनाकर खुद को बेहतर नागरिक साबित करें.

निष्कर्ष

देशभर में सरकार पॉल्यूशन फ्री दिवाली बनाने का अभियान चला रही है. दिवाली से पहले खासकर स्कूलों और दूसरे संस्थानों में बच्चों को सीखाया जाता है कि कैसे दिवाली को पॉल्यूशन फ्री सेलिब्रेट किया जा सकता है. पर्यावरण और प्रदूषण विभाग लोगों को जागरुक करने के लिए जी तोड़ मेहनत करता है. अखबारों में इसकी जानकारी छपवाई जाती है कि कैसे हमारा वातावरण पटाखों के धूंए और आवाज से प्रदूषित हो रहा है. सुप्रीम कोर्ट ने रात के 10 बजे से सुबह 6 बजे तक पटाखे फोड़ने पर बैन भी लगा दिया है. दिवाली पर जलाए जाने वाले पटाखों से होने वाले कचरे से पानी में भी प्रदूषण होता है.

हम सभी को जागरूक होकर हर साल प्रदूषण मुक्त दिवाली मनाकर खुद के साथ पर्यावरण को बचाने का संकल्प लेना चाहिए. दिवाली एक ऐसा त्यौहार है जिसमें लोग आपसी रंजिश भुलाकर एक जुट होकर पूरे उत्साह के साथ इस त्यौहार को मनाते है. आखिर ये त्यौहार है दोस्ती और भाईचारे का. बहरहाल दिवाली ना केवल लोगों को साथ लाती है बल्कि उन्हें एक मकसद देती है, जीवन जीने का मतलब सीखाती है और सारे रिति रिवाजों को मनाते हुए उम्मीदों से भरा जीवन जीने के लिए प्रेरित करती है.

Related Links

Luxury Diwali Gift Boxes | Diwali Decor Items | Diwali Lights | Tea Light Holders | Decorative Diya | Corporate Diwali Gifts

View More +

Thank you!

Your message has been successfully sent. We will contact you very soon!

Whatsapp Us