Durga Idols

Durga Idols

Buy Goddess Durga Idol Online in India at Affordable Prices from My Pooja Box

Goddess Durga is an epitome of courage. She’s the ‘Shakti’, the destroyer of evil. In case you’ve been looking for brass Durga idols online, look no further. We bring you a hand-picked collection that speaks of divinity.

Maa Durga idol in our store is available in silver, metal, and brass materials. Pick the one in antique design or go for a diamond studded one. We have different types of Durga mata murtis for your home shrine. Explore our collection of Durga idol’s online to find the same statue you’ve been looking for.

At My Pooja Box, you are most welcome to buy our Durga idols at very reasonable rates. We have done our best to become the number one source for all people to purchase top class Durga idols online and enjoy them till the end of their life. Durga is the embodiment of Mother Goddess and has the power of all gods and nature. Durga Mata murtis come with 8 arms. Sitting on her lion Durga is holding various weapons and is ready to defeat all enemies. You can easily buy the wonderful Durga Mata murtis online from our store and give these idols to your loved ones as well.

As MPB is a very trusted organization, we do everything to manufacture and export idols in the best condition. We ensure that your order is delivered to you on time and always in a visually appealing appearance. In our collections, brass Durga idols are one of the most popular ones. We pride ourselves for offering the highest ever quality and we continue to bring new and more innovative statues at your disposal. Simply visit us now and we will also help you to place your order. Our website is very user-friendly, so you can find each category without any hassle. My pooja box is always ready to exceed your expectations and provide you with the finest quality Durga Mata murtis online you have always wanted to buy. Placing this idol in your abode would attract opportunities of success and strengthen your spiritual progress.

About Goddess Durga

Goddess Durga is popularly known as Devi, Shakti and is considered as the root cause of creation, maintenance, and destruction. Whenever demonic forces torment the divine and godly men, Durga through Her inconceivable energies check such forces at once. The Shiva Purana mentions her conquest over the demonic king Mahishasura. Armed with the celestial weapons, Goddess Durga takes on all the demonic forces. Therefore, one must worship Durga for driving away all the negativity from their personal and professional lives. Durga is honored with devotion during the festival of Durga Puja in her ten divine forms Kushmanda, Chandraghanta, Brahmacharini, Shailaputri, Skandamata, Katyayani, Kalaratri, Mahagauri, Mahakali and Durga.

Durga Mata Murtis Idols for Home

My Pooja Box offers Durga Idols made of marble and brass. Worshiping Durga daily keeps all the negative energy at bay. Install this murti in the north direction in your temple room or meditation room. Buy Durga idols online made of marble stone at best price.

Maha Kali is one of the fiercest manifestations of Durga. She is associated with Kala or the Great Time that plays the most essential role in creating, maintaining and destroying the material manifestations of the cosmos. Meditating on Maha Kali gives you strength to start and finish your undertakings on time and manifest Divine abundance. Buy Maa Durga murti idols online at best price.

Significance of Dussehra Festival

The festival of Dussehra is unique in its perception and significance. According to the great Hindu epic Ramayana, Lord Ram killed Ravana on the tenth day of month of Ashwin, that is Dussehra. It is called as triumph of virtue over sin or immorality. Ravana is said to have abducted Ram’s wife, Sita and was also known as a dictating ruler. The end of Ravana meant end of bad and evil spirit as he was a demon by birth too.

Throughout Navratri, Ramleela is organised in many parts of the country and people enjoy the enactment of the play based on Ramayana.

The festival of Dussehra is also known as Durga Pooja and in eastern part of India people worship Goddess Durga all the nine days and celebrate Dussehra as it was on that day that the demon Mahisasura was killed by the Goddess.

Celebration of Dussehra in Different Parts of India

Here is how Dussehra is celebrated in different parts of India:

Dussehra Celebration in North India - In North India, people celebrate Dussehra by burning the effigy of Ravana, Kumbhakarna, and Meghnath. It is the commencement of the play based on the epic, Ramayana. It is the final day and there is usually a fete organised and enjoyed by people. A chariot carrying Ram, Sita, and Lakshaman passes through the crowd and the person enacting Ram aims an arrow to burn the effigies one by one.

Dussehra Celebration in Gujarat - In Gujarat, men and women gather and dance every night of the Navratri. A number of competitions and shows are organised on this occasion. The songs are usually devotional ones and the dance form is called Garba. Women in their best of attires surround beautifully decorated earthen pots and dance till late night. In many places Garba starts late at night and continue till dawn.

Dussehra Celebration in South India - In South India, the days of Navratri are equally divided to worship three Goddesses - Lakhmi, Goddess of wealth and prosperity, Saraswati, Goddess of knowledge and learning, and Durga, goddess of power and strength. They decorate their houses and steps with lamps and flowers in the evenings. Dussehra festival of Mysore is well known and is celebrated in its own style with pomp and pageantry.

There are many other stories associated with the festival of Dussehra. No matter what the stories are, festivals in India convey the message of benevolence, peace, and love. If the people kept in mind the beautiful and meaningful messages throughout the year, it would have been peace and harmony all around.

However, in India festivals are celebrated by all Indians, regardless of being a Hindu or belonging to any other religion. There is a spirit of brotherhood seen during festival seasons.

The Mother of the Universe - Maa Durga is an embodiment of self-realization, knowledge, power, truth and purity. She is the ‘destroyer of evil’ who battles against the forces of evil and misery and brings peace and harmony in the world.

Get home Maa Durga Brass Murti

What can be more amazing than Maa Durga Brass Statue as Ganesh Chaturthi gifts, or Diwali gifts? MyPoojaBox.com is the only online shopping store where you can buy Goddess Durga Idols.

Rustic Maa Durga Brass Statues

Riding on lion or tiger, this eight-armed Maa Durga Brass Murti with intricate design and detailing with rustic golden tone is a beautiful embellishment for your home décor.

Come, browse through the lovely collection and buy Goddess Durga Idols, the adorable Maa Durga Brass Murti, and surprise your loved ones with the charming Rakhi gifts for your sister, or Diwali gifts for your near and dear ones.

‘माय पूजा बॉक्स’ से भारत में खरीदें ऑनलाइन दुर्गा मूर्ति

देवी दुर्गा साहस का प्रतीक है। वह बुराई का नाश करने वाली शक्ति है। अगर आप पीतल की दुर्गा मूर्तियां ढूंढ रहें है तो आपकी तलाश ‘माय पूजा बॉक्स’ पर आकर खत्म हो सकती है। हमने आपके लिए वो चुनिंदा कलेक्शन लाया है जो देवत्य की बात करता है।

हमने अपनी वेबसाइट पर चांदी, मेटल और ब्रॉस से बनी दुर्गा प्रतिमा का कलेक्शन रखा है। आप चाहें तो कोई एंटीक डिजाइन चूज कर सकते है या फिर डायमंड भी अच्छा ऑप्शन है। हमारे पास आपके घर के मंदिर के लिए अलग-अलग तरह के दुर्गा माता की प्रतिमाएं हैं। आप हमारे ऑनलाइन दुर्गा माता की मूर्ति का कलेक्शन देखकर अपनी तलाश पूरी कर सकते है।

‘माय पूजा बॉक्स’ पर हम आपका उचित दर पर दुर्गा मूर्ति खरीदने के लिए स्वागत करते हैं। हमने सभी लोगों को शीर्ष श्रेणी की दुर्गा मूर्तियों को ऑनलाइन खरीदने और अपने जीवन के अंत तक उनका आनंद लेने के लिए नंबर 1 स्त्रोत बनने की पूरी कोशिश की है। दुर्गा मां देवी का अवतार है और सभी देवताओं और प्रकृति की शक्ति है। दुर्गा मां की मूर्तियां आठ भुजाओं के साथ आती है। शेर पर सवार दुर्गा माता के हाथों में अलग-अलग शस्त्र धारण होते है जिससे वो दुश्मनों को हराने के लिए हमेशा तैयार रहती है। आप बड़े ही आसानी से ऑनलाइन दुर्गा माता की मूर्ति ऑर्डर कर सकते है और अपने प्रियजनों को भेंट कर सकते है।

‘माय पूजा बॉक्स’ बहुत विश्वसनीय संगठन है, हम सबसे अच्छी स्थिति में मूर्तियों के निर्माण और निर्यात के लिए सब कुछ करते है। हम आपको ये आश्वस्त करते है कि आपका ऑर्डर दिखने में आर्कषक हो और आपको समय पर मिले। हमारे कलेक्शन में पीतल की दुर्गा मूर्तियों को ज्यादा पसंद किया जाता है। हम उच्चतम गुणवत्ता प्रदान करने के लिए खुद पर गर्व करते है और आगे भी अधिक नवीन मूर्तियों को लाना जारी रखने का वादा करते हैं। बस हमारी वेबसाइट विसिट करें और हम आपकी मदद करेंगे आपका ऑर्डर प्लेस करने में। हमारी वेबसाइट काफी यूज़र फ्रेंडली है जिससे कोई भी बिना किसी परेशानी के हर कैटेगरी को एक्सप्लोर कर सकता है। ‘माय पूजा बॉक्स’ हमेशा आपकी उम्मीदों पर खरा उतरने के लिए तैयार रहता है और आपको बेहतरीन गुणवत्ता वाली दुर्गा माता मूर्ति प्रदान करते है जिसे हर कोई खरीदना चाहता हैं। इस मूर्ति को अपने निवास स्थान पर रखने से सफलता के अवसर मिलते हैं और आपकी आध्यात्मिक प्रगति मजबूत होती है।

दुर्गा माता

दुर्गा मां को लोकप्रिय रुप से देवी,शक्ति के नाम से जाना जाता है और इसे सृजन,रखरखाव और विनाश का मूल कारण माना जाता है। जब भी आसुरी शक्तियां दिव्य और ईश्वरीय पुरूषों को पीड़ा देती हैं,दुर्गा अपनी अनिर्वचनीय ऊर्जाओं के माध्यम से ऐसी शक्तियों का विनाश कर देती है। शिवपुराण में राक्षसी राजा महिषासुर पर उसकी विजय का उल्लेख है। आकाशीय हथियारों से लैस,देवी दुर्गा सभी राक्षसी ताकतों को संभालती है। इसलिए,सभी को अपने व्यक्तिगत और व्यावसायिक जीवन से नकारात्मकता दूर करने के लिए मां दुर्गा की पूजा करनी चाहिए। मां दुर्गा को उनके दिव्य रुपों कुष्मांडा, चंद्रघंटा, ब्रह्मचारिणी, शैलपुत्री, स्कंदमाता, कात्यायनी, कालरात्रि, महागौरी और दुर्गा में दुर्गा पूजा के त्यौहार के दौरान भक्ति से सम्मानित किया जाता है।

घर के लिए दुर्गा माता की मूर्तियां

‘माय पूजा बॉक्स’ संगमरमर और पीतल से बनी दुर्गा मूर्तियों की पेशकश करता है। प्रतिदिन दुर्गा की पूजा करने से सभी नकारात्मक ऊर्जा दूर रहती है। इस मूर्ति को अपने मंदिर या ध्यान कक्ष में उत्तर दिशा में स्थापित करें। आप मार्बल से बनी दुर्गा मूर्तियों को ऑनलाइन हमारी वेबसाइट से सही दाम में खरीद सकते हैं।

महाकाली दुर्गा के उग्र रुप में से एक है। जो काल या महान समय के साथ जुड़ा हुआ है,जो ब्रह्मांड की भौतिक अभिव्यक्तियों को बनाने,बनाए रखने और नष्ट करने में सबसे आवश्यक भूमिका निभाते है। महाकाली का ध्यान करने से आपको अपने उपक्रमों को समय पर शुरू और खत्म करने,दिव्य प्रचुरता प्रकट करने की शक्ति मिलती है। मां दुर्गा की प्रतिमा को आप सर्वोत्तम दाम पर ऑनलाइन खरीद सकते है।

दशहरा त्यौहार का महत्त्व

दशहरा का त्यौहार अपने आप में काफी अलग और महत्त्वपूर्ण है। हिन्दू महान महा काव्य रामायण के अनुसार,भगवान राम ने अश्विन मास के दसवें दिन रावण का वध किया था,जिसे दशहरा कहा जाता है। इसे पाप या अनैतिकता पर पुण्य की विजय कहा जाता है। रावण एक तानाशाह शासक के रुप में जाना जाता था जिसने राम की पत्नी,सीता का अपहरण कर लिया था। रावण के अंत का मतलब बुरी और बुरी आत्मा का अंत था क्योंकि वो जन्म से राक्षस था।

नवरात्रि के दौरान देश के कई हिस्सों में रामायण पर आधारित रामलीला का आयोजन होता है जिसका लोग भरपूर आनंद लेते है।

दशहरे का त्यौहार भारत के पूर्वी भाग में दुर्गा पूजा के रुप में भी जाना जाता है,लोग पूरे नौ दिनों तक देवी दुर्गा की पूजा करते है और दशहरा मनाते है क्योंकि ये वही दिन था जब देवी द्वारा राक्षस महिषासुर का वध किया गया था।

भारत के विभिन्न भागों में दशहरा का उत्सव

आईए हम आपको बताते है कि भारत के अलग-अलग हिस्सों में दशहरा कैसे मनाया जाता है:

उत्तर भारत में दशहरा उत्सव- उत्तर भारत में लोग रावण,कुंभकरण और मेघनाथ का पुतला जलाकर दशहरा मनाते हैं। यह महाकाव्य,रामायण पर आधारित नाटक का आरंभ है।यह आयोजन का अंतिम दिन होता है जो लोगों द्वारा आनंद लिया जाता है। राम,सीता और लक्ष्मण को लेकर एक रथ,भीड़ से होकर गुजरता है और राम का रुप लिए हुआ व्यक्ति एक-एक करके अपने तीर-धनुष से पुतलों को जलाता है।

गुजरात में दशहरा - गुजरात में पुरुष और महिलाएं नवरात्रि की हर रात इकट्ठा होकर नृत्य करते हैं। इस अवसर पर कई प्रतियोगिताओं और शो का आयोजन किया जाता है। गीत आमतौर पर भक्तिमय होते हैं और नृत्य को गरबा कहा जाता है। महिलाएं अपने बेहतरीन परिधानों में देर रात तक खूबसूरती से सजे मिट्टी के बर्तन और नृत्य दिखाती हैं। कई जगह गरबा देर रात से शुरू होता है और भोर तक जारी रहता है।

दक्षिण भारत में दशहरा उत्सव – दक्षिण भारत में नवरात्रि के दिन समान रुप से धन-समृद्धि की देवी लक्ष्मी,ज्ञान-शिक्षा की देवी सरस्वती और शक्ति की देवी दुर्गा की पूजा करने के लिए विभाजित है। शाम को दियों और फूलों के साथ लोग अपने घर को सजाते हैं। मैसूर का दशहरा त्यौहार अपने आप में अलग और धूमधाम तरीके से मनाया जाता है।

दशहरा के त्यौहार के साथ कई अन्य कहानियां भी जुड़ी हुई है। कोई फर्क नहीं पड़ता कि कहानियां क्या है,भारत में त्यौहार परोपकार,शांति और प्रेम का संदेश देते हैं। यदि लोग पूरे वर्ष सुंदर और सार्थक संदेशों को ध्यान में रखें तो चारों ओर शांति और सद्भाव बने रहेगा।

हालांकि भारत में त्यौहार सभी भारतियों द्वारा मनाए जाते हैं,चाहे वो हिंदू या किसी भी अन्य धर्म का क्यों ना हो। त्यौहारों के मौसम में भाईचारे की भावना देखी जाती है।

View More +

Thank you!

Your message has been successfully sent. We will contact you very soon!